Sardaar Ballav Bhai Patel Short Real Story in Hindi

Sardaar Ballav Bhai Patel Short Real Story in Hindi

Sardaar Ballav Bhai Patel Short Story : गुजरात के एक गांव में कुछ लड़के अंधेरे ही स्कूल जा रहे थे। वे खेतों की मेड़ पर बनी पगडंडी  पर एक के पीछे एक तेज चाल से चल रहे थे। एक लड़के के पैर में मेड़ पर गड़े पत्थर से ठोकर लग गई। बड़ा दर्द हुआ। दूसरे ही क्षण वह पत्थर को उखाड़ने में जुट गया। उसके साथी उसे पुकारते आगे बढ़ गए।
 
थोड़ी देर बाद वह पीछे से आकर उनसे मिल गया और बोला – “पगडंडी के बीचोंबीच एक पत्थर गड़ा था, हर राहगीर को अंधेरे में ठोकर लगती होगी। आज मेरे अंगूठे में भी चोट आ गई है” उसने अपना अंगूठा दिखाया, जिस से खून बह रहा था – “उसे मैंने उखाड़ कर ही दम लिया।
 
रास्ते की रुकावट को हर हालात में दूर कर देना चाहिए। न जाने कितनों के अंगूठे तोड़े होंगे उस पत्थर ने।“ वह बोला। यह दृढ़ निश्चयी बालक सरदार वल्लभ भाई पटेल थे जो लोह पुरुष के नाम से विख्यात हुए। वे वही महापुरुष थे जिन्होने भारत के एकीकरण जैसे मुश्किल कार्य को पूरा किया और सम्पूर्ण विश्व में ख्याति अर्जित की।
 

Leave a Reply

error: Content is protected !!