मेरे देश की धरती, सोना उगले Mere Desh Ki Dharti Sona Ugle lyrics

Mere Desh Ki Dharti Sona Ugle Hindi Movie Desh Bhakti Songs Poems lyrics

Hindi Movie: उपकार (1967)
Lyrics By: गुलशन बावरा
मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती..
मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती…आ आ ओ ओ..
 
बैलों के गले में जब घुंघरू जीवन का राग सुनाते हैं
जीवन का राग सुनाते हैं
गम कोसों दूर हो जाता है खुशियों के कँवल मुसकाते है
खुशियों के कँवल मुसकाते है
ओ ओ.. सुन के रहट की आवाजें
सुन के रहट की आवाजें यूं लगे कहीं शहनाई बजे
यूं लगे कहीं शहनाई बजे आते ही मस्त बहारों के
दुल्हन की तरह हर खेत सजे
दुल्हन की तरह हर खेत सजे
मेरे देश की धरती…
मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती..
मेरे देश की धरती…
मेरे देश की धरती…
 
जब चलते हैं इस धरती पे हल ममता अंगडाइयाँ लेती है
ममता अंगडाइयाँ लेती है
क्यों ना पूजे इस माटी को जो जीवन का सुख देती है
जो जीवन का सुख देती है ओ ओ..
इस धरती पे जिसने जनम लिया
इस धरती पे जिसने जनम लिया
उसने ही पाया प्यार तेरा
उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोइ नहीं यहाँ अपना पराया कोइ नहीं 
है सब पे माँ, उपकार तेरा – है सब पे माँ, उपकार तेरा 
मेरे देश की धरती…
मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती..
मेरे देश की धरती…
 
ये बाग़ है गौतम नानक का
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ 
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गांधी, सुभाष, टैगोर, तिलक
ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरी सिंह नलवे से
रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग बना बसन्ती भगत सिंह
रंग बना बसन्ती भगत सिंह
रंग अमन का वीर जवाहर से
रंग अमन का वीर जवाहर से
मेरे देश की धरती…
मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती..
मेरे देश की धरती…
मेरे देश की धरती……
मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती….
————————

Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti, Sona ugle, ugle heere moti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti ..aa aa aa. oo.ooo

Bailon ke gale mein jab ghunghru Jeevan ka raag sunate hain
Jeevan ka raag sunate hain
Ghum koson door ho jata hai Khushiyon ke kamal muskaate hain
Khushiyon ke kamal muskaate hain
Ho ho…
Sun ke rehat ki aawaajein
Sun ke rehat ki aawaajein, Yun lage kahin shehnaayi baje
Yun lage kahin shehnaayi baje Aate hi mast baharon ke
Dulhan ki tarah har khet saje
Dulhan ki tarah har khet saje
Mere desh ki dharti…
Mere desh ki dharti, Sona ugle, ugle heere moti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti

Jab chalte hain is dharti pe hal Mamta angdaiyaan leti hai
Mamta angdaiyaan leti hai
Kyon na pooje is maati ko ,Jo jeevan ka sukh deti hai
Jo jeevan ka sukh deti hai
Ho ho….
Is dharti pe jisne janam liya
Is dharti pe jisne janam liya, Usne hi paya pyaar tera
Usne hi paya pyaar tera
Yahan apna paraya koi nahi, Hain sab pe maa upkaar tera
Hain sab pe maa upkaar tera
Mere desh ki dharti…
Mere desh ki dharti, Sona ugle, ugle heere moti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti

Ye baag hain Gautam nanak ka
Khilte hain aman ke phool yahaan
Khilte hain aman ke phool yahaan
Gandhi, Subhash..
Gandhi, Subhash, Tagore, Tilak
Aise hain chaman ke phool yahaan
Aise hain chaman ke phool yahaan
Rang hara Hari Singh Nalawe ke
Rang laal hain Laal Bahadur ke
Rang bana basanti Bhagat Singh
Rang aman ka veer Jawahar se
Mere desh ki dharti…
Mere desh ki dharti,
Sona ugle, ugle heere moti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti, Sona ugle, ugle heere moti
Mere desh ki dharti
Mere desh ki dharti …..

See All hits India Desh bhakti Songs

One Response

  1. Pooja Singh baghel June 9, 2018

Leave a Reply