मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे Meri Ansuan Bhije Saadi Re

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे Meri Ansuan Bhije Saadi Re

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे Meri Ansuan Bhije Saadi Re

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे तुम आओ कृष्ण मुरारी ।

प्रभु आकर लाज बचाना तुम मेरा चीर बढ़ाना ।

दुःशासन खींचे साड़ी रे तुम आओ कृष्ण मुरारी ॥

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे……..

गुरु भीष्म बलधारी, सब बैठे हिम्मत हारी ।

पति अर्जुन से बलकारी रे, तुम आओ कृष्ण मुरारी ॥

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे……..

तुम याद करो बनवारी, जब अंगुली कटी तुम्हारी ।

मैंने रेशम साड़ी फाड़ी रे, तुम आओ कृष्ण मुरारी ॥

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे……..

मेरा क्या बिगड़े बनवारी, जब जायेगी लाज तुम्हारी ।

सब लोग हंसे दे ताली रे, तुम आओ कृष्ण मुरारी ॥

मेरी अंसुअन भीजे साड़ी रे……..

Leave a Reply