कन्धों से मिलते हैं कन्धे kandhon se milte hain kandhe lyrics

कन्धों से मिलते हैं कन्धे kandhon se milte hain kandhe lyrics in hindi Hindi English Deshbhakti Poem Song

 
Hindi Movie – Lakshya
Year 2004
Kandhon Se Milte Hain Kandhe

Kandhon Se Milte Hain Kandhe

कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैंअब तो हमें आगे बढ़ते है रहना,
अब तो हमें साथी है बस इतना ही कहना
अब तो हमें आगे बढ़ते है रहना,
अब तो हमें साथी है बस इतना ही कहना अब जो भी हो शोला बनके पत्थर है पिघलाना,
अब जो भी हो बादल बनके परबत पर है छाना
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैंनिकले हैं मैदां में हम जां हथेली पर लेकर,
अब देखो दम लेंगे हम जा के अपनी मंजिल पर,
खतरों से हंस के खेलना, इतनी तो हम में हिम्मत है,
मोड़े कलाई मौत की, इतनी तो हम में ताक़त है,
हम सरहदों के वास्ते लोहे की इक दीवार हैं
हम दुश्मनों के वास्ते होशियार हैं, तैयार हैं

अब जो भी हो शोला बनके पत्थर है पिघलाना,
अब जो भी हो बादल बनके परबत पर है छाना
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं

जोश दिल में जगाते चलो, जीत के गीत गाते चलो,
जीत की जो तस्वीर बनाने हम निकले हैं अपनी लहू से,
हमको उसमें रंग भरना है,साथी मैंने अपने दिल में अब ये ठान लिया है,
या तो अब करना है या तो अब मरना है,चाहे अंगारें बरसे के बिजली गिरे
तू अकेला नहीं होगा यारा मेरे, कोई मुश्किल हो या हो कोई मोर्चा
साथ हर मोड़ पर होंगे साथी तेरे, 
अब जो भी हो शोला बनके पत्थर है पिघलाना,
अब जो भी हो बादल बनके परबत पर है छाना
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं

इक चेहरा अक्सर मुझे याद आता है, इस दिल को चुपके-चुपके वो तड़पाता है
जब घर से कोई भी ख़त आया है, कागज़ को मैंने भीगा-भीगा पाया है
पलकों पे यादों के कुछ दीप जैसे जलते हैं, कुछ सपने ऐसे हैं, जो साथ-साथ चलते हैं
कोई सपना न टूटे, कोई वादा न टूटे, तुम चाहो जिसे दिल से वो तुमसे ना रूठे
अब जो भी हो शोला बनके पत्थर है पिघलाना,
अब जो भी हो बादल बनके परबत पर है छाना
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं

चलता है जो ये कारवाँ, गूंजी सी है ये वादियाँ,
है ये ज़मीं, ये आसमां, है ये हवा, है ये समां,
हर रस्ते ने, हर वादी ने हर परबत ने, सदा दी
हम जीतेंगे, हम जीतेंगे, हम जीतेंगे, हर बाज़ी
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं
कन्धों से मिलते हैं कन्धे, क़दमों से क़दम मिलते हैं,
हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं

चलता है जो ये कारवाँ, गूंजी सी है, ये वादियाँ

——–

Kandhon Se Milte Hain Kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain
Kandho se milate hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

Abb toh hame aage badte hai rehna
 Abb toh hame sathee hai bas itna hee kehana
Abb toh hame aage badte hai rehna
 Abb toh hame sathee hai bas itna hee kehana

 Abb jo bhee ho shola banke pathar hai pighlana
 Abb jo bhee ho badal banke parbat par hai chhana
Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain
Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

 

 Nikle hain maidan me ham jan hatheli par le kar
 Abb dekho dam lenge ham jake apanee manjil par
 Khataro se haske khelana, itani toh ham me himmat hai
 Mode kalai maut kee, itani toh ham me takat hai
 Ham sarhado ke waste lohe kee ik diwar hai
 Ham dushmano ke waste hoshiyar hai taiyar hai
 Abb jo bhee ho shola banke pathar hai pighlana
 Abb jo bhee ho badal banke parbat par hai chhana

 Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

 Josh dil me jagate chalo, jit ke git gate chalo
 Jit kee jo tasvir banane ham nikle hain apanee lahu se
 Hamko uss me rang bharna hai
 Sathee maine apane dil me abb yeh than liya hai
 Ya toh abb karana hai, ya toh abb marna hai
 Chahe angare barse ke bijli gire, tu akela nahee hoga yara mere
 Koi mushkil ho ya ho koi ho morcha
 Sath har mod par honge sathee tere
 Abb jo bhee ho shola banke pathar hai pighlana
 Abb jo bhee ho badal banke parbat par hai chhana
Kandhon Se Milte Hain Kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

 Ik chehra aksar mujhe yad aata hai
 Iss dil ko chupke chupke woh tadpata hai
 Jab gharse koi bhee khat aaya hai
 Kagaj ko maine bhiga bhiga paya hai
 Palko palko pe yado ke kuchh dip jaise jalte hain
 Kuchh sapane aise hain, jo sath sath chalte hain
 Koi sapana naa tute koi wada naa tute
 Tum chaho jisse dil se woh tumase naa ruthhe
 Abb jo bhee ho shola banke pathar hai pighlana
 Abb jo bhee ho badal banke parbat par hai chhana
Kandhon Se Milte Hain Kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

 Chalta hai jo yeh karvan, gunji see hai yeh wadiyan
 Hai yeh jamin yeh aasman, hai yeh hawa hai yeh sama
 Har raste ne, har wadi ne har parbat ne sada dee
 Ham jitenge ham jitenge ham jitenge har baji
 Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain
 Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain
 Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain
 Kandho se milte hain kandhe, kadmon se kadam milte hain
 Ham chalte hain jab aise toh dil dushman ke hilte hain

 Chalta hai jo yeh karvan, gunji see hai yeh wadiya

2 Comments

  1. ashok solanki August 1, 2017
    • Achha Gyan August 2, 2017

Leave a Reply