Best investment and saving strategy | 5 Savings Mistakes to Avoid

Best Saving Strategy, अच्छी सेविंग करना है तो यह गलती कभी न करे,  5 Savings Mistakes to Avoid

Saving Strategy in Hindi : हम जानते हैं कि जीवन में वित्तीय रूप से सफल होने के लिए अच्छे saving plan and saving strategy बनाना जरुरी होता है| जब आप अपने retirement, बच्चों की पढाई, शादी या फिर घर बनवाने के बारे में सोचते हैं तो अपने लिए saving plan बनाना और उस पर ठीक ढंग से अमल करना बहुत जरुरी होता है|  

इन सबको करते समय बहुत सारी गलतियाँ भी लोग करते हैं जिसका परिणाम ये होता है कि जब उनको पैसों की आवश्यकता होती है तो उनके पास वो पूंजी नहीं हो पाती है जो उन्हें चाहिए थे| आज इस लेख में, मैं आपको कुछ ऐसे पॉइंट के बारे में बताऊंगा जिसे प्रायः लोग गलती करते हैं और नुकसान उठाते हैं| अगर आपको जीवन मे अच्छी सेविंग करनी है तो बताई गयी गलती कभी न करे –

1- बचत तुरंत प्रारंभ ना करना : अच्छी saving strategy का एक सबसे जरुरी पहलु है समय पर सेविंग स्टार्ट करना| मेरी उम्र अभी बहुत कम है, मुझे अपने लिए पैसे बचाना जरुरी नहीं है, मैंने अभी अपना saving plan तैयार नहीं किया है वगैरह-वगैरह, इन सब बहानो से बचते हुए अपने लिए तुरंत saving शुरू करें| काम ना करने के बहुत से बहाने मिल जाते हैं, लेकिन उसे ना करने के जो देरी हो जाती है उसकी भरपाई दुबारा नहीं की जा सकती है| इस लिए अपने जीवन के लक्ष्यों को समय से हासील करने के लिए तुरंत saving शुरू करना चाहिए |

2- कर-लाभ को नजरअंदाज ना करें (Do not Neglect Tax Advantages) : अकसर लोग जब निवेश माध्यम का चयन करते हैं तो tax के फैक्टर को नजरंदाज कर देते हैं, जो बहुत बड़ी गलती होती है| आप जरा सोचिये अगर आप RD करते हैं तो 8% का ब्याज मिलता है और उसमे अगर कर लाभ को भी जोड़ दिया जाए तो वो हो जाता है 13%|  इन्वेस्टमेंट के साथ टैक्स सेविंग करना एक अच्छी saving strategy है|

3- निवेश में विविधिकरण ना रखना : (Keep Diversification in your saving ) : प्रायः पाया जाता है कि निवेशक अपना सारा पैसा एक ही तरह के निवेश माध्यम में लगा देता है जो बहुत ही गलत और खतरनाक होता है| जब आप निवेश करना शुरू करें तो प्रारंभ से ही अपने निवेश में विविधिता बना देना ही बुद्धिमानी है| एक उचित अनुपात में आपका निवेश insurance, regular saving account, fixed income और Equity में जाना चाहिए|

4- महंगाई को नजर अंदाज करना (Never ignore Inflation) : निवेश प्रारंभ कर देने के बाद हम ध्यान नहीं दे पाते हैं कि हम महंगाई को हरा पा रहे हैं कि नहीं, क्यूंकि जब आप निवेश करते हैं उस समय के रुपये के मूल्य में और कुछ सालों के बाद के मूल्य में बहुत अंतर आता है, जो महंगाई के कारण होता है| जरा सोचिये अगर आपने 7% के वार्षिक दर पर FD किया है और उस वर्ष महंगाई 6% की दर से बढ़ी है, तो आपने वास्तव मे कितना कमाया : only 1%| इसलिए महंगाई को नजरंदाज करना महंगा पड़ सकता है|

5- आय बढ़ने के अनुपात में बचत का ना बढ़ाना : कुछ लोग एक बार जो निवेश शुरू कर दिया यो ही राशि कई वर्षों तक जारी रखते हैं| जरा सोचिये अगर आपकी आय बढ़ रही है तो आपका बचत भी तो उसी अनुपात में बढ़ना चाहिए, अगर आप ऐसा करने में सफल नहीं होते हैं तो निश्चित रूप से आपको अपने लक्ष्य तक पहुचने में बहुत परेशानी होगी| आय के अनुपात में बचत बढ़ाना इसलिए जरुरी होता है, क्यूंकि महंगाई जिसकी चर्चा मैंने ऊपर किया वो आपके पैसे की कीमत को बहुत गिरा देता है| 

निष्कर्ष :  जीवन में बहुत उतर चढाव आते हैं और इस भौतिकवादी युग में धन बहुत महत्व रखता है, और धन अर्जित करने के लिए जीवन में लक्ष्य निर्धारित करना और उसको पाने के लिए सही प्रवंधन करन बहुत जरुरी होता है| तो ऊपर बताये गई विषय को ध्यान में रखते हुए आपको अपने निवेश को नियोजित करना चाहिए |

Guest Post by Founder of Money Sanchay Fincorp

Leave a Reply