Holi poem in Hindi Kavita for Kids KG

Hindi Kavita Poem for Kids on Holi 

होली का है हंगामा,
उड़ता है लाल गुलाल |
इधर उधर सब दौड़ रहे है ,
तेज हो गयी है चाल
दादी जी पर रंग डाला
तो आ गया भूचाल
वो भी भागी ले पिचकारी
हो गया न आज कमाल

 

 

Leave a Reply