Hindi Essay on Raksha Bandhan रक्षाबंधन राखी पर निबंध जानकारी महत्व PDF

Hindi Essay on Raksha Bandhan PDF

Raksha Bandhan का महत्व: भारत त्योहारों का देश है और यहाँ विभिन्न प्रकार के त्योहार धूम धाम से मनाए जाते हैं | भारत मे मनाये जाने वाले सभी त्यहारों का अपना विशेष महत्त्व है | राखी या रक्षाबंधन का भी अपना विशेष महत्त्व है क्योकि यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है | इस दिन न तो कोई पटाखे छोड़े जाते हैं ना ही रंगो से खेला जाता है | इस पर्व को बड़ी ही शांति से एक उत्त्सव के जैसे मनाया जाता है | वैसे तो कोई भी भाई-बहन का प्रेम किसी दिन का मोहताज नहीं लेकिन राखी के त्योहार का ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व होने की वजह से इस त्योहार को मनाया जाता है | रक्षा बंधन का त्योहार भाई और बहन के प्रेम की भावनाओ का जश्न मनाने का दिन होता है | इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांध कर भाइयों की समृद्धि, अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना करती है भाई के हाथ पर बाँधी गयी राखी, बहन की रक्षा करने का संकलप दिलाता है | सभी भाई अपनी बहन को सभी बुराइयों से बचाने, सुखी और समृदि रखने का वचन देतें है और सारी बुराइयों और मुसीबतो से अपनी बहन की रक्षा का प्रण लेते है | इतिहास गवाह है की बहन का मान सम्मान रखने के लिए बहुत से भाइयो ने अपनी जान तक गवां दी | Click here to download PDF

Essay on Raksha Bandhan in Hindi

Raksha Bandhan

रक्षाबन्धन त्यौहार हर वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है इसलिए इसे श्रावणी भी कहा जाता है | बहनो द्वारा भाइयो को बांधने वाला धागा कच्चा सूत, कलावा, रेशमी धागे या फिर सोने या चांदी से बना कोई महंगा धागा भी हो सकता है | वैसे तो राखी का त्यौहार भाई और बहन के प्रेम को दर्शाने के लिए मशहूर है लेकिन इसको हमारे देश की महिलाये सीमा पर तैनात नौजवान को भी भेजती है और अपना ध्यानवाद देती है क्योकि सीमा पर तैनात नौजवान हमारे देश की हर पल रक्षा करता है | इसके आलावा बच्चे अपने गुरुओ को , बेटियां अपने पिता को और सार्वजनिक रूप से भी मनाया जाता है जहाँ पर महिलाये पुलिस, सरकारी अफसर, नेता या फिर दूसरे प्रतिष्ठित व्यक्ति को भी राखी बांधती है।

रक्षाबंधन के अवसर पर सभी बाजार सजने लगते है और त्यौहार से कुछ दिनों पहले ही बाजार मे चहल-पहल शुरू हो जाती है । बाजार की दुकाने अलग अलग प्रकार की रंग-बिरंगी राखियों से सजती है एवं महिलाये अपने भाइयों के लिए राखी, मिठाई व् चॉकलेट खरीदती हैं । इस अवसर पर भाई भी अपनी बहनो के लिए अलग अलग तरह के उपहार खरीदते है | राखी वाले दिन सभी महिलाएँ भाइयों के लिए पूजा की थाली सजाती हैं जिसमे राखी, रोली या हल्दी, चावल, मिठाई आदि रखती है और अपने भाइयो की दाहिनी कलाई पर राखी बांधने के साथ माथे पर हल्दी का टीका लगाती है | राखी और टिका करने के बाद, बहने अपने भाई को मिठाई खिला कर उसकी लम्बी आयु की कामना करती है | इसके बाद भाई अपनी बहनो को उपहार देता है। रक्षाबन्धन के दिन विशेष प्रकार के पकवान बनाये जाते हैं जिसमे घेवर खास होता है | 

 Read Also – List of National Symbols 

Read Also – Essay on Diwali

Read Also – Essay on Mother

रक्षा बंधन से जुडी कुछ पौराणिक कथाएं व् इतिहास Raksha Bandhan History:

पुरानी कथाओ मे यह कहा जाता है की एक बार देवताओ और दानवो के बिच युद्ध मे देवता, दानवों से हारने लगे। इस युद्ध के संभावित परिणाम को देख देव इंद्र की पत्नी अपने पति के प्राणों की रक्षा के लिए हवन व् तप करने लगी और कुछ समय बाद श्रावण पूर्णिमा के दिन देविक शक्ति उक्त रेशम का धागा कुछ मन्त्रों के साथ अपने पति देव इंद्र को तिलक करते हुए हाथ पर बाँध दिया। कहते है इसके बाद देवताओ की शक्ति बढ़ गयी और उन्होंने दानवो को युद्ध मे परास्त किया | तब से ही राखी को एक पवित्र व् शक्तिशाली धागा मन जाता है और कहा जाता है की सभी श्रावण पूर्णिमा के दिन इसको बांधने पर सारी विपदाएं दूर होंगी | वैसे तो ये धागा एक पत्नी ने पति की हथेली पर बांधा था लेकिन उसके बाद बहुत सारे ऐसे किस्से हुए जहाँ पर बहनो ने अपने भाइयो को अपनी रक्षा के लिए धागा बांधा इसलिए ही इसको बहनो और भाइयों के बिच रिश्ते का नाम मिला |

महाभारत का एक प्रसंग बहुत मशहूर है जब श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन भगवान कृष्ण ने शिशुपाल का वध किया लेकिन उनको चोट लग गयी और खून बहने लगा यह देखकर द्रौपदी ने अपनी साड़ी का एक हिस्सा फाड़कर भगवन कृष्ण की उँगली पर बाँध दिया । बाद मे द्रोपदी के चीरहरण के वक़्त भगवान् श्री कृष्ण ने द्रोपदी की लाज बचायी थी | कहा जाता है तभी से यह त्यौहार भाई-बहन का त्योहार बन गया और सभी बहने अपने भाइयों की कलाई पर राखी बाँध कर अपने भाई से अपनी सुरक्षा का वादा लेती है और भाई की सुख समृद्धि की कामना करती है|

Nibandh on Swachh Bharat Abhiyan

Hindi Essay on National Flag

Raksha Bandhan – Click here to download PDF

Leave a Reply