What is ESIC Act Rules and benefits in hindi एम्प्लोयी स्टेट इनश्योरेंस कारपोरेशन

ESIC Act Rules for Employee in Hindi : ईएसआई अधिनियम download PDF

ESIC का पूरा नाम Employees’ State Insurance Corporation है जिसको हिंदी मे कर्मचारी राज्य बीमा कहते है | ESIC एक ऑटोनोमस कारपोरेशन है जो की भारत सरकार के लेबर एंड एम्प्लॉयमेंट मिनिस्ट्री के अधिकर मे काम करती है | यह स्कीम कामगार लोगो के लिए एक आत्म वित्तपोषण सामाजिक सुरक्षा एवं हेल्थ बीमा स्कीम है जिसके लिए एम्प्लोयी स्टेट इन्शुरन्स कॉर्पोरशन ESI act रूल्स एंड रेगुलेशन बनाये गए है | इसआई स्कीम को कामगार लोगो को ध्यान मे रखते भारत के पूर्व प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 24th फरवरी 1952 को कानपूर मे start किया था | यह भारत की सबसे पहली सामाजिक सुरक्षा स्कीम कहलाती है जो की कर्मचारियों को चिकित्सा सुविधा प्रदान करती है | 24 फरवरी को स्कीम लांच करने के बाद इस स्कीम ने सफलता से अपने कई दशक पुरे किये और इतने सालो मे अनगिनत कर्मचारियों व् उनके परिवार ने स्कीम का फायदा लिए और चिकित्सा सुविधा के साथ साथ अपना फाइनेंसियल बोझ भी कम किया | जैसे की ESIC का logo है – एक जलता हुआ दिया उसी परिकल्पना को यह स्कीम पूरी करती हुए कामगार लोगो के जीवन मे  प्रकाश बन कर काम कर रही है (इसआई logo – Lighted lamp)| Click here to download PDF

ESIC Act Rules And Benefits In Hindi

ESIC

ESIC मे रजिस्टर करने का आर्गेनाइजेशन को क्या फायदा है – सबसे पहले तो यह की जो भी आर्गेनाइजेशन इसआई रूल्स के हिसाब से एलिजिबल होती है उनके लिए ये ऑप्शनल नहीं जरुरी है | लेकिन आर्गेनाइजेशन के लिए इसआई रजिस्टर करने के कुछ फायदे भी है – 

  • आर्गेनाइजेशन वर्कमेन कंपनसेशन एक्ट एंड मैटरनिटी बेनिफिट एक्ट की लाईबिलिटी से फ्री होते है | एक बार इसआई एक्ट मे रजिस्टर करने के बाद कर्मचारी की बिमारी, काम के वक़्त दुर्घटना से चोट लगने पर या काम के समय मौत हो जाने पर मेडिकल जिम्मेदारियों से आजाद होते है | 

यह योजना कौनसी आर्गेनाइजेशन व् कामगारों पर लागु होती है : 

  1. यह स्कीम उन फैक्ट्रीज एंड कमर्शियल आर्गेनाइजेशन पर लागू होती है जहाँ पर 10 या ज्यादा कर्मचारी काम करते है | 
  2. भारत सरकार ने 1 जनवरी 2017 से सभी कामगार या कर्मचारी जिनकी सैलरी 21000 तक है उनको इस एक्ट मे शामिल किया है (2017 से पहले 15000 लिमिट थी) | यह लिमिट सभी  रेगुलर एवं कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों पर लागु होती है | 21000 की लिमिट मे ओवर टाइम या  बोनस अमाउंट को शमिल नहीं किया जाता | 

इस स्कीम मे कर्मचारी व् आर्गेनाइजेशन को कितना अंशदान करना होता है  : 

  1. सैलरी का 1.75% कर्मचारी को व् 4.75% एम्प्लायर को पे करना होता है और यह एम्प्लायर की जिम्मेदारी है की वो हर महीने अपना व् अपने कर्मचारी का अंशदान ESI को समय पर जमा कराये| 
  2. जिन कर्मचारियों को एक दिन के 137 Rs मिलते है उनका अंशदान आर्गेनाइजेशन को जमा करना होता है| 

Read Also – What is Gratuity

Read Also – What is Public Provident Fund

Read Also –National New Pension Scheme NPS

Read Also – What is EPFO UAN

Read Also – How to Check EPF balance

ESIC मे रजिस्टर करने वाले कर्मचारी को क्या फायदे मिलते है : ESI मे कवर होने वाले कर्मचारी व् उसके परिवार को सुपर स्पेशिलिटी ट्रीटमेंट के साथ, बीमारी के दौरान होने वाले सैलरी के नुक्सान की भरपाई के लिए केश कंपनसेशन, मैटरनिटी बेनिफिट, नौकरी के दौरान कर्मचारी की दुर्घटना मे मौत होने पर परिवार को पेंशन, बेरोजगारी भत्ता, शारीरिक पुनर्वास, व्यावसायिक पुनर्वास, अंत्येष्टि व्यय आदि फायदे मिलते है |कर्मचारियों को मिलने वाले फायदों को कुछ केटेरगेरी मे बाँटा गया है – 

  1.  मेडिकल बेनिफिट : कर्मचारी और परिवार के सदस्य को पूरा बिमारी का खर्च मिलता है जिसकी कोई ऊपरी सीमा नहीं होती | अगर कर्मचारी चाहे तो साल के 120 Rs सालाना अतिरिक्त देकर रिटायर और परमानेंट डिसएबल होने के बाद भी अपने आपको बीमा कवर करवा सकता है | 
  2. सिकनेस बेनिफिट : यह बेनिफिट कॅश कंपनसेशन से जुड़ा हुआ है | इसमें कर्मचारी को बिमारी के दौरान होने वाले सैलरी के नुक्सान की भरपाई के लिए सैलरी का 70 percent (पुरे साल मे मैक्सिमम 91 दिन तक) तक कॅश कंपनसेशन दिया जा सकता है |  
  3. मैटरनिटी बेनिफिट 
  4. डीसेबलेमेंट बेनिफिट 
  5. अंतिम संस्कार का ख़र्च 

Read Also – मातृत्व अवकाश के लाभ संशोधन विधेयक 2017 

Click here to download PDF

Read also – Income tax slab for Assessment Year 2019-20 and FY 2018-19 

44 Comments

  1. Deepak August 12, 2017
    • Achha Gyan August 14, 2017
  2. Sandhya verma September 22, 2017
    • Achha Gyan December 4, 2017
  3. Sandhya verma September 22, 2017
  4. Jatin Mhatre November 16, 2017
    • Achha Gyan November 17, 2017
  5. SACHIN November 17, 2017
  6. Ravi kumar sharma November 20, 2017
    • Achha Gyan November 21, 2017
  7. Deepak Patidar December 1, 2017
    • Achha Gyan December 4, 2017
  8. priyanka December 2, 2017
    • Achha Gyan December 4, 2017
  9. meena December 9, 2017
    • Achha Gyan December 21, 2017
  10. meena December 9, 2017
  11. manoj kumar December 14, 2017
    • Achha Gyan December 27, 2017
  12. amol Patil January 5, 2018
    • Achha Gyan January 8, 2018
  13. Shahnawaz January 10, 2018
    • Achha Gyan January 11, 2018
  14. Mayur more January 11, 2018
    • Achha Gyan January 11, 2018
  15. Rahul Pandey January 14, 2018
    • Achha Gyan January 15, 2018
  16. Lala Vitthal Atole January 17, 2018
    • Achha Gyan January 18, 2018
  17. sandeep kumar January 19, 2018
    • Achha Gyan January 19, 2018
  18. Ankit January 23, 2018
    • Achha Gyan February 1, 2018
  19. Nitin January 28, 2018
    • Achha Gyan February 1, 2018
  20. JITENDER KUMAR February 3, 2018
    • Achha Gyan February 6, 2018
  21. Dinesh utekar February 6, 2018
    • Achha Gyan February 8, 2018
  22. Ritesh February 20, 2018
    • Achha Gyan February 20, 2018
  23. Niraj kumar February 20, 2018
  24. Niraj kumar February 20, 2018

Leave a Reply