छोड़ कर संसार जब तू जायेगा Chod Kar Sansaar Jab Tu Jayega

छोड़ कर संसार जब तू जायेगा Chod Kar Sansaar Jab Tu Jayega

छोड़ कर संसार जब तू जायेगा Chod Kar Sansaar Jab Tu Jayega

छोड़ कर संसार जब तू जायेगा।

कोई न साथी तेरा साथ निभायेगा॥टेक॥

गर प्रभु का भजन किया न, सत्संग किया न दो घड़ियां।

यमदूत लगाकर तुझको, ले जायेंगे हथकड़ियां कौन छुड़ायेगा॥ कोई न साथी….

इस पेट भरन के खातिर, तू पाप  कमाता निशदिन।

शमशान में लकड़ी रखकर, तेरे आग लगेगी एक दिन खाक हो जायेगा॥ कोई न साथी….

यह सत्संग की गंगा है, तू इसमें लगा ले गोता।

वरना इस दुनिया से तू, जायेगा एक दिन रोता फेर पछताएगा॥ कोई न साथी….

क्यों कहता मेरा मेरा, यह दुनिया रैन बसैरा।

यहां कोई न रहने पाता, है चंद दिनों का डेरा हंस उड़ जायेगा॥ कोई न साथी….

श्री संत चरण में निशदिन, तू प्रीत लगाले बंदे।

कट जायेंगे सब तेरे, ये जन्म मरण के फंदे पार हो जायेगा॥ कोई न साथी….

Leave a Reply