Automatic transmission car kaise drive kare | How to drive an automatic car

Automatic car कैसे चलाये

Automatic car driving Tips in Hindi : आटोमेटिक कार चलाने का आसान तरीका जानने से पहले अगर कोई ये सोचता है की आपको मैन्युअल कार चलाना सीखना जरुरी है तो यह बिलकुल गलत है| कोई भी person जो की मैन्युअल कार ड्राइविंग नहीं जानता वो भी automatic car को आसानी से चला सकता है क्योकि इसमें आपको मैन्युअल कार की तरह गियर चेंज नहीं करने होते और आप बिना किसी परेशानी के आसानी से केवल स्पीड, ब्रेक और steering कण्ट्रोल करके गाडी चला सकते है| 

India मे automatic transmissions कार, नए और पुराने ड्राइवर्स दोनों के बिच बहुत तेजी से अपनी जगह बना रही है और इसका एक ही कारण है मैन्युअल ट्रांसमिशंस की तुलना मे ऑटो गियर वाली गाडी को चलाना बहुत आसान होता है। कार को अगर आप सिटी मे ड्राइव कर रहे हो या फिर हाइवेज पर दोनों जगह आपको आटोमेटिक कार एक अलग ही कम्फर्ट देती है। यहाँ पर हम आटोमेटिक ड्राइव के लिए जरुरी कुछ टिप्स शेयर कर रहे है इनको पढ़िए और सभी के साथ शेयर करिये। ये सिंपल टिप्स आटोमेटिक कार ड्राइविंग के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध हो सकती है| ये टिप्स बताते वक़्त हम ये मानकर चल रहे है की आपको आपकी कार के बैसक फंक्शन्स पता है और आप आपकी कार के बारे मे जानते है – 

Read Also : Car Chalana Sikhna Step by Step

Read Also – Car ko reverse kaise kare

Read Also – Raat mai car drive kaise kare

Read Also – How to apply online driving license

Read Also – Car mai kaunsi speed pr kaunsa gear change kre 

Step 1 : सबसे पहले आप अपनी कार मे बैठ जाये और अपनी सीट को इस तरह से एडजस्ट करे की आपके पैर आसानी से ब्रेक एंड स्पीड तक जा पाए और आपके हाथ की पोजीशन स्टीयरिंग इस तरह हो की न ज्यादा दूर हो ना ज्यादा पास हो।  एक बार आप अपनी सीट एडजस्ट कर ले तो उसके बाद सीट बेल्ट पहन ले और गाड़ी के गेट बंद कर ले 

Step 2 : अब जब आप गाडी चलाने के लिए तैयार हो तो, दो बातो को धयान रखना है –

पहली बात – आपके लेफ्ट हैंड पोजीशन पर आपको मैन्युअल गियर लीवर की जगह पर ऑटो गियर बॉक्स दिखाई देगा वहां पर आपको गाडी “P” मोड मे डालनी है एवं दूसरी बात गाडी स्टार्ट करने से पहले आपको आपका सीधा पैर ब्रेक पेडल पर रखते हुए उसको पूरा अंदर की तरफ प्रेस करना है। ध्यान रहे की यहाँ पर आपको केवल ब्रेक एंड एस्क्लेटर पडेल मिलता है एवं दोनों को आपको एक ही पैर से (सीधे पैर से) मैनेज करना होता है| इसके बाद गाडी को स्टार्ट करे (चाबी से या बटन से जो भी ऑप्शन गाडी मे दिया हुआ हो)| गाडी स्टार्ट करने के बाद सामने दिए गए इन्फो मीटर मे देखे की कोई वार्निंग का मैसेज तो नहीं आ रहा या फिर किसी तरह की बीप साउंड तो नहीं बज रही। एक बार ये सब देखने के बाद जब आप कन्फर्म हो जाये तो फिर आप गाडी चलाने के लिए तैयार है। 

Automatic car brake and accelerator : यहाँ हम आपको बता रहे है की आपके पैर के निचे क्या ऑप्शन आपको मिलते है| जब आप मैन्युअल कार ड्राइव करते है तो आपको पैर के निचे तीन ऑप्शन मिलते है – क्लच, ब्रेक एंड एक्सेलरेटर लेकिन यहाँ पर आपकी गाडी आटोमेटिक है इसलिए आपको केवल दो ऑप्शन मिलेंगे – ब्रेक एंड एक्सेलरेटर। क्योकि आपको आटोमेटिक कार मे गियर मैन्युअली नहीं लगाने होते इसलिए आपको यहाँ पर क्लच का ऑप्शन नहीं मिलता। ब्रेक पेडल आपके लेफ्ट पैर पर होता है जबकि एक्सेलरेटर सीधे पैर की तरफ| लेकिन गाडी ड्राइव करते हुए आपको लेफ्ट पैर को यूज़ नहीं करना होता एवं केवल राइट पैर यूज़ करे|

How To Drive An Automatic Car brake and accelerator

How To Drive An Automatic Car brake and accelerator

Automatic car gear system: ऑटोगियर सिलेक्टर मोड, ड्राइवर साइड के लेफ्ट हैंड पर ड्राइवर एवं पास की पैसेंजर सीट के बिच मे होता है – अलग अलग ऑटो गियर गाडी मे, अलग अलग ऑप्शन देखने को मिलेंगे लेकिन यहाँ पर हम आपको कॉमन ऑप्शन (जो की ज़्यदातर गाड़ियों मे मिलते है) के बारे मे बता रहे है – गियर इंडीकेटर्स मे अलग अलग इंग्लिश के लेटर देखने को मिलेंगे – “P”, “D”, “N”, “R” and “S” और कुछ नंबर भी हो सकते है 1,2 etc | 

automatic car gear system in india hindi

automatic car gear system in india

Step 3 : अब स्टेप 2 के बाद जब आपने गाडी स्टार्ट कर ली है तो अब गियरबॉक्स मे “P” मोड से गाडी को D मोड पर शिफ्ट कर लेना है और धीरे धीरे ब्रेक से पैर हटाना है। जैसे जैसे आप ब्रेक से पैर हटाते है to आपको धीरे धीरे राइट पैर से गाडी की स्पीड बढ़ाने के लिए एक्सेलरेटर पर पैर रखना है । अब आप आसानी से अपने गाडी को ड्राइव करे और सामान्य condition मे आपको गियर बॉक्स की तरफ देखने की जरूरत भी नहीं। 

Step 4 : जब आप अपने destination पर पहुंच जाए तो ब्रेक प्रेस करे और गाडी को रोक ले। गाडी को रोकने के बाद वापस से गियरबॉक्स मे गाडी को D मोड से P मोड पर कर दे और गाडी को बंद करके पार्क कर दे| 

गियर बॉक्स मे दी गयी अलग अलग मोड का मतलब –

D मोड : जब आपको गाडी ड्राइव करनी हो तो इस मोड पर शिफ्ट करे| 
P मोड : जब आपको गाडी पार्क करके कही जाना हो तो P मोड का उपयोग करे| 
R मोड : जब आपको गाडी रिवर्स करनी हो तो R मोड का उपयोग करे| 
N मोड : जब आपको गाडी की स्पीड को कण्ट्रोल करने की कोई जरुरत ना हो जैसे की आप ट्रैफिक मे कही फस गए है और गाडी को आपने कुछ देर तक एक जगह पर रोक रखा है, जब आप गाडी को कण्ट्रोल ना कर रहे हो और गाडी को push or tow करना हो या फिर कुछ देरी के लिए गाडी को पार्क करके आप जा रहे हो|

Leave a Reply